February 6, 2023
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • पूर्वांचल न्यूज
  • पंचायत चुनाव : छूट मिलते ही फैली UP बीजेपी में वंशवाद की बेल, 9 मंत्रियो के घर आई निर्विरोध ‘प्रमुखी’

पंचायत चुनाव : छूट मिलते ही फैली UP बीजेपी में वंशवाद की बेल, 9 मंत्रियो के घर आई निर्विरोध ‘प्रमुखी’

By Shakti Prakash Shrivastva on July 10, 2021
0 220 Views

लखनऊ, (शक्ति प्रकाश श्रीवास्तव)। पहले केंद्र में और बाद में देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में बहुमत की सरकार बनाने वाली बीजेपी ने अपने शुरुआती दिनों में ही कई ऐसे प्रयोग किए जो भारतीय राजनीति के लिए नए थे। उसमे सबसे महत्वपूर्ण था परिवारवाद को प्रोत्साहित न किए जाने वाला प्रयोग। पार्टी काफी हद तक इसमें सफल भी रही। लेकिन कहते हैं परिभाषायेँ  स्थान, काल और पात्र तय करता है। हुआ वही कि पार्टी को परिस्थितिजन्य समझौता करते हुए उत्तर प्रदेश के पंचायत चुनाव में इस प्रतिबंध को शिथिल करते हुए छूट देनी पड़ी। छूट मिलते ही पार्टी ने इतिहास बनाने की ओर कदम बढ़ा दिये। सरकार के 9 मंत्रियों के बहू व बेटे निर्विरोध ब्लाक प्रमुख बन गए। चार दर्जन से अधिक विधायकों के परिवार वाले भी कतार में लग गए।

प्रदेश के 826 ब्लाकों मे होने वाले ब्लाक प्रमुख चुनाव में पार्टी द्वारा मिले छूट का फायदा न केवल कार्यकर्ताओं को मिला बल्कि सांसद, विधायक और मंत्रियों तक को इसका भरपूर लाभ मिला। प्रदेश के काबीना मंत्रियों में सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा के पुत्र अभिषेक वर्मा बहराइच के मिंहीपूरवा से, कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही के पुत्र सुब्रत शाही देवरिया के पथरदेवा से, पशुधन राज्यमंत्री जय प्रकाश निषाद की पुत्रवधू अनीता निषाद देवरिया के गौरीबाजार से, श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य की पुत्रवधू सविता मौर्य रायबरेली के दीनाशाह गौरा से, पशुधन मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी के भतीजे की पत्नी सुंदरी चौधरी मथुरा के नंदगांव से, माध्यमिक शिक्षा राज्य मंत्री गुलाबो देवी की बेटी सुगंधा संभल के बनियाखेड़ा से, शहरी विकास राज्यमंत्री महेश चंद्र गुप्ता के भाई की पत्नी नीलम गुप्ता बदायूं के दहीगंवा से, ग्राम्य विकास मंत्री राजेन्द्र सिंह ‘मोती सिंह’ के बेटे राजीव प्रताप सिंह प्रतापगढ़ के मंगरौरा से और उनके भतीजे राकेश प्रताप सिंह प्रतापगढ़ के पट्टी ब्लाक से निर्विरोध ब्लाक प्रमुख चुने गए। विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायन दीक्षित के बेटे दिलीप दीक्षित भी उन्नाव के हिलौली से निर्विरोध ब्लाक प्रमुख बने। इसके अलावा कई दर्जन विधायकों-सांसदो-कार्यकर्ताओं के अपने भी इसी तरह निर्वाचित हुए। पार्टी का दावा है की उनके 318 प्रमुखो का निर्विरोध निर्वाचन हुआ है।

 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *