February 7, 2023
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • पूर्वांचल न्यूज
  • आज़ादी का अमृत महोत्सव:सीएम योगी बोले- हम अपनी जिम्मेदारी पूरी करें, भारत होगा सबसे शक्तिशाली देश

आज़ादी का अमृत महोत्सव:सीएम योगी बोले- हम अपनी जिम्मेदारी पूरी करें, भारत होगा सबसे शक्तिशाली देश

By Purvanchalnama Desk on March 12, 2021
0 171 Views

 

लखनऊ-देश की आजादी की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ के विख्यात शहीद स्थल काकोरी में अमृत महोत्सव का शुभारंभ किया। पीएम नरेंद्र मोदी ने अहमदाबाद के साबरमती आश्रम में अमृत महोत्सव के साथ ही दांडी मार्च की 75वीं वर्षगांठ के समारोह की शुरुआत की। इसके बाद देश भर में सभी प्रमुख शहीद स्मारकों पर कार्यक्रम का आगाज हो गया।काकोरी के शहीद स्मारक पर अमृत महोत्सव कार्यक्रम में सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ कैबिनेट मंत्री ब्रजेश पाठक, डॉ. महेंद्र सिंह तथा आशुतोष टंडन भी थे। मुख्यमंत्री ने शहीदों को नमन करने के साथ देश की आजादी में उनके बेहद अहम योगदान पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी वर्चुअल माध्यम से जुड़े।

आजादी की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस अवसर पर प्रदेशवासियों से अपील की है कि वह अपने कार्य क्षेत्र में ईमानदारी से कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए 25 वर्ष की उस कार्ययोजना को मूर्त रूप दें जिससे कि वर्ष 2047 में एक भारत, श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना साकार हो सके। देश की स्वतंत्रता आंदोलन के नायक राम प्रसाद बिस्मिल, राजेंद्र नाथ लाहिड़ी, चंद्रशेखर आजाद, रोशन सिंह, अशफाक उल्लाह खां को अपने श्रद्धासुमन अॢपत करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इन महान क्रांतिकारियों के जीवन का लक्ष्य ही देश की स्वाधीनता थी। उस समय जब भारत की जनता के पैसे का इस्तेमाल भारतीयों के दमन के लिए किया जा रहा था, तब आजादी के इन मतवालों ने काकोरी कांड को अंजाम देकर अंग्रेजी हुकूमत को चुनौती दी थी।उन्होंने कहा कि अमृत महोत्सव के शुभारंभ के मौके पर लखनऊ के अलावा मेरठ, झांसी और बलिया में भी ऐसे ही कार्यक्रम आयोजित हो रहे हैं। चार फरवरी 1922 को देश के अंदर आजादी के आंदोलन को नई दिशा देने वाली चौरी चौरा की घटना हुई थी। हम इस घटना के शताब्दी वर्ष को महोत्सव के रूप में मना रहे हैं। सरकार ने तय किया है कि देश की आजादी के आंदोलन की प्रमुख तिथियों पर हर शहीद स्मारक पर आयोजित होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों के जरिए देश के ज्ञात और अज्ञात शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाएगी। ऐसे कार्यक्रम देश की वर्तमान पीढ़ी को स्वतंत्रता आंदोलन से रूबरू करते हुए वर्तमान चुनौतियों से लडऩे के लिए भी प्रेरित करेंगे।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *