September 27, 2022
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • टॉप न्यूज
  • यूपी पंचायत चुनाव : हारकर भी जीती बीजेपी, 75 में 67 पर लहराया परचम

यूपी पंचायत चुनाव : हारकर भी जीती बीजेपी, 75 में 67 पर लहराया परचम

By Shakti Prakash Shrivastva on July 3, 2021
0 230 Views
शेयर न्यूज

लखनऊ, (शक्ति प्रकाश श्रीवास्तव)। चुनाव के बारे में अमूमन ये धारणा है कि संख्या बल ही परिणाम दिलाते है जबकि प्रदेश के पंचायत चुनावों के परिणाम इस धारणा को सिरे से खारिज करते हैं। सामान्यतया ये परिणाम स्थानीय समीकरणों से अधिक प्रभावित होते हैं। इस बार भी ऐसा ही देखने को मिला। शनिवार को जब पंचायत के नतीजे आने शुरू हुए तो जिस बीजेपी की सदस्य संख्या कुल 3050 में महज 603 थी उसने रिकार्ड जीत हासिल करते हुए प्रदेश की 75 में से 67 जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर काबिज हो गयी। हारने की स्थिति में रिकार्ड जीत हासिल करने को जहां पार्टी 2022 चुनाव के बूस्टर डोज़ के रूप में देख रही है वहीं विपक्ष खासकर संभावित जीत की जगह हार मिलने से तिलमिलाए एसपी प्रमुख अखिलेश यादव ने इसे सत्ता के बल पर जीत करार दिया।

उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनावों के जब नतीजे आए तो 75 जिलों के कुल 3050 पंचायत सदस्य संख्या में सर्वाधिक 842 सदस्य एसपी के जीते जबकि बीजेपी के मात्र 603 सदस्य जीते। निर्दलियों की संख्या 1088 थीं। इस परिणाम से उत्साहित एसपी 2022 के विधानसभा चुनाव में अपनी मजबूत स्थिति मानकर आगामी रणनीति बनाना शुरू करने लगी थी। वो जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर भी ख़ासी संख्या मिलने के प्रति आशान्वित थी। लेकिन हुआ ये कि बीजेपी के रणनीतिकारों ने एसपी के मंसूबे पर पानी फेरते हुए शनिवार को रिकार्ड कायम कर दिया और 2016 के एसपी के 63 के आंकड़े से अधिक 67 सीटें कब्जा लीं। बीजेपी के 67 और एसपी के 5 और आर एल डी के 1 के अलावा प्रतापगढ़ और जौनपुर दो ऐसे जिले थे जहां सत्ता की हनक भी विजय नहीं दिला सकी। प्रतापगढ़ में विधायक रघुराज प्रताप सिंह ‘राजा भैया’ और जौनपुर में बाहुबली धनंजय सिंह की धमक बरकरार रही। प्रतापगढ़ मे जनसत्ता दल लोकतान्त्रिक पार्टी की माधुरी पटेल और जौनपुर मे धनंजय सिंह की पत्नी श्रीकला सिंह को विजयश्री मिली। पूर्वांचल की 28 सीटों में 23 बीजेपी के खाते में आई। यहां एसपी को सिर्फ 3 सीटें मिलीं। पश्चिमी यूपी में भी बीजेपी को 23 सीटें मिलीं और एसपी को दो। सेंट्रल यूपी की 15 सीटों में 14 बीजेपी के नाम रही। बुंदेलखंड की सभी सातों सीटों पर बीजेपी ने क्लीन स्वीप किया। शनिवार को 53 सीटों के लिए हुए चुनाव में बीजेपी ने जिलों में अपने सदस्यों की संख्या कम होने पर जीते हुए निर्दलीयों को पार्टी के सिंबल पर उम्मीदवार बनाया। साथ ही निर्दलीयों को प्रत्याशी के पक्ष में लामबंद भी किया। ऐसा लखनऊ समेत 12 सीटों पर बीजेपी ने किया है। निर्दलीय उम्मीदवार की साफ सुथरी छवि के सहारे अन्य लोगों को भी बीजेपी में शामिल कराया। इतना ही नहीं उन्हें जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव जितवाया भी। इसके अलावा बीजेपी पार्टी ने स्थानीय जातीय समीकरणों का भी सहारा लिया। प्रदेश की 23 सीटों पर बीजेपी ने अनसूचित जाति और जनजाति के अलावा ओबीसी महिला उम्मीदवारों की तलाश की। इनमें से अधिकतर वह थी जिन्होंने पहली बार चुनाव में हिस्सा लिया। ऐसी महिला सदस्यों को अपने सिंबल पर चुनाव लड़वाकर जितवाया। पार्टी ने हर जिले के लिए जातीय आधार पर समीकरण भी तैयार किए। इस बार पार्टी के रणनीतिकारों ने एक और प्रयोग किया जो सफल रहा वो ये कि पार्टी ने इस बार फैसला किया कि इस पर किसी भी पदाधिकारी के परिवार व रिश्तेदार को उम्मीदवार नहीं बनाया जाएगा। इसका उदाहरण है कि गोंडा के जिला पंचायत अध्यक्ष सीट पर मौजूदा सांसद बृज भूषण शरण की नहीं चली। ऐसे ही प्रतापगढ़ में कैबिनेट मंत्री मोती सिंह की पत्नी का टिकट काट दिया गया। संगठन ने सभी सांसद, मंत्री व विधायकों को जिलों की सीट जिताने की जिम्मेदारी दे दी। जिससे वह लोकल स्तर की गुटबाजी में खुद शामिल न हो सकें। यही कुछ ऐसे प्रयोग थे जिन्हे करके बीजेपी ने अपनी हार को जीत में बदल दिया।

जिलों में जीते प्रत्याशी-

  1. चंदौली – दीनानाथ शर्मा BJP
  2. हापुड़ – नागर BJP
  3. सुल्तानपुर -उषा सिंह BJP
  4. मिर्जापुर – राजू कन्नौजिया BJP
  5. रायबरेली -रंजना चौधरी BJP
  6. मथुरा -किशन चौधरी BJP
  7. फिरोजाबाद – हर्षिता सिंह BJP
  8. बिजनौर-साकेन्द्र प्रताप सिंह BJP
  9. हमीरपुर -जयंती राजपूत BJP
  10. मुजफ्फरनगर -वीरपाल निर्वाल BJP
  11. सोनभद्र – राधिका पटेल (अपना दल (S)
  12. बलिया -आनंद चौधरी
  13. गाजीपुर – सपना सिंह BJP
  14. उन्नाव – शकुन सिंह BJP
  15. हरदोई- प्रेमावती BJP
  16. कुशीनगर – सावित्री जायसवाल BJP
  17. मैनपुरी- अर्चना भदौरिया BJP
  18. प्रतापगढ़- जनसत्ता पार्टी से माधुरी पटेल
  19. कन्नौज – प्रिया शाक्य BJP
  20. जालौन – घनश्याम अनुरागी BJP
  21. महाराजगंज- रविकांत पटेल BJP
  22. संतकबीर नगर – बलराम यादव (सपा)
  23. लखीमपुर- ओमप्रकाश भार्गव BJP
  24. बदायूं – वर्षा यादव BJP
  25. प्रयागराज- डॉ. वीके सिंह BJP
  26. अमेठी – राजेश अग्रहरि BJP
  27. भदोही- अमित सिंह BJP
  28. बाराबंकी- राजरानी रावत BJP
  29. फर्रुखाबाद – मोनिका यादव BJP
  30. संभल – अनामिका BJP
  31. बस्ती- संजय चौधरी BJP
  32. फतेहपुर – अभय प्रताप उर्फ पप्पू सिंह BJP
  33. शामली- मधु गुज्जर BJP
  34. अलीगढ़- विजय सिंह BJP
  35. जौनपुर- निर्दलीय श्रीकला सिंह
  36. कासगंज- रत्नेश कश्यप BJP
  37. आजमगढ़- विजय यादव सपा
  38. सिद्धार्थनगर- शीतल सिंह BJP
  39. एटा- रेखा यादव सपा
  40. अयोध्या- रोली सिंह मैदा BJP
  41. रामपुर- ख्याली राम लोधी BJP
  42. सीतापुर – श्रद्धा सागर BJP
  43. औरैया- कमल दोहरे
  44. महोबा – जयप्रकाश अनुरागी
  45. फतेहपुर – अभय प्रताप सिंह
  46. कानपुर – स्वप्निल वरुण BJP
  47. कानपुर देहात – नीरज रानी सिंह BJP
  48. अम्बेडकर नगर – श्याम सुंदर BJP
  49. बरेली- रश्मि पटेल BJP
  50. कौशाम्बी – कल्पना सोनकर BJP
  51. हाथरस- सीमा उपाध्याय BJP
  52. देवरिया- गिरीश चंद तिवारी BJP
  53. लखनऊ – आरती रावत BJP

जहां बीजेपी प्रत्याशी निर्विरोध चुने गए

  1. मेरठ- गौरव कुमार
  2. गाजियाबाद- ममता त्यागी
  3. गौतमबुद्धनगर- अमित चौधरी
  4. बुलंदशहर- डॉक्टर अंशुल तेवतिया
  5. सहारनपुर- मांगेराम
  6. आगरा- आरती भदौरिया
  7. मुरादाबाद- डॉक्टर शेफाली चौहान
  8. अमरोहा- ललित सेंगर
  9. शाहजहांपुर- ममता यादव
  10. पीलीभीत- दलजीत कौर
  11. गोरखपुर- साधना सिंह
  12. गोंडा- घनश्याम मिश्रा
  13. बलरामपुर- आरती त्रिपाठी
  14. बहराइच- मंजु सिंह
  15. श्रावस्ती- दद्दन मिश्रा
  16. वाराणसी- पूनम मौर्या
  17. मऊ- मनोज राय
  18. झांसी- पवन गौतम
  19. ललितपुर- कैलाश निरंजन
  20. बांदा- सुनील पटेल
  21. चित्रकूट- अशोक जाटव
  • जहां से एसपी प्रत्याशी निर्विरोध जीते
  1. इटावा- अंशुल यादव

 

 


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published.