September 27, 2022
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • पूर्वांचल न्यूज
  • यूपी:कोरोना के गंभीर मरीजों को मुफ्त में रेमडेसिविर उपलब्ध कराएगी योगी सरकार

यूपी:कोरोना के गंभीर मरीजों को मुफ्त में रेमडेसिविर उपलब्ध कराएगी योगी सरकार

By Purvanchalnama Desk on April 27, 2021
0 307 Views
शेयर न्यूज

लखनऊ– रेमेडेसिविर इंजेक्शन की किल्लत को देखते हुए यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बड़ा फैसला लिया है। अब यह सभी सरकारी अस्पतालों में भर्ती कोरोना संक्रमित मरीजों को निशुल्क दिया जाएगा। वहीं, निजी अस्पतालों में भर्ती उन गंभीर मरीजों को रेमडेसिविर इंजेक्शन निशुल्क उपलब्ध कराया जाएगा, जो बाजार से इसे खरीद पाने में सक्षम नहीं है। ऐसी स्थिति में जिलाधिकारी व मुख्य चिकित्साधिकारी मरीज को मुफ्त उपलब्ध कराएंगे। हालांकि यह व्यवस्था विशेष परिस्थितियों में ही की जाएगी। सोमवार को टीम 11 की बैठक में मुख्यमंत्री ने फैसला लिया कि निजी अस्पतालों को रेमडेसिविर इंजेक्शन तय दरों पर उपलब्ध कराया जाएगा। इसके अलावा मेडिकल कॉलेज अपने संसाधनों से भी रेमडेसिविर खरीद सकेंगे।

दवाओं की नही है कमी-सीएम योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश में रेमडेसिविर और अन्य जीवन रक्षक दवाओं का कोई अभाव नहीं है। मांग के अनुरूप जिलों को पर्याप्त वायल दिये जाएंगे। सीएम योगी ने कहा कि सरकार की प्राथमिकता मरीजों के जीवन की हर कीमत पर रक्षा करना है। यूपी मेडिकल सप्लाइज कॉर्पोरेशन लिमिटेड को प्रदेश के सभी सरकारी अस्पतालों, राजकीय और प्राइवेट चिकित्सा महाविद्यालयों में इस दवा की आपूर्ति की जिम्मेदारी सौंपी गई है। कोरोना संक्रमित मरीजों को रेमडेसिविर उपलब्ध कराने से पहले जांच की जाएगी कि वह किस अस्पताल में भर्ती है और उसे इंजेक्शन की कितनी जरूरत है। मंडल स्तर पर सम्बंधित डीएम के परामर्श के बाद मंडलायुक्त पुन: आवंटन कर सकते हैं। इस दौरान मुख्यमंत्री ने रेमडेसिविर की कालाबाजारी को पूरी तरह से रोकने के निर्देश दिये।राजकीय और निजी चिकित्सा महाविद्यालयों के अस्पतालों के नान इन्वेसिव वेंटिलेटर के सभी बेड के लिए रेमडेसिविर की एक वायल प्रतिदिन दी जाएगी। 15 फीसदी ऑक्सीजन बेड के लिए भी रेमडेसिविर दी जाएगी। मौजूदा स्थिति में यह संख्या करीब 5500 वायल रोजाना है। इसके अलावा प्रदेश के सभी जिलों में इमरजेंसी प्रयोग के लिए रेमडेसिविर की 1800 वायल दी जाएंगी। इसे सरकारी अस्पतालों में या किसी निजी चिकित्सालय में भर्ती मरीज की जीवन रक्षा के लिए डॉक्टर के पर्चे पर तय दरों पर सीधे मरीज के परिजन को दिया जा सकेगा।


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published.