September 27, 2022
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

उत्तर प्रदेश के निजी अस्पतालों में सीएमओ की पर्ची बिना भर्ती हो सकेंगे कोरोना मरीज

By Purvanchalnama Desk on April 23, 2021
0 103 Views
शेयर न्यूज

लखनऊ-कोरोना के बढ़ते संक्रमण और प्राइवेट अस्पतालों में भर्ती के लिए आ रही दिक्कतों को लेकर यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। यूपी में अब प्राइवेट अस्पतालों में 90 प्रतिशत मरीज बिना सीएमओ के रेफरल लेटर के भर्ती होंगे। वहीं सरकारी अस्पताल भी 30 प्रतिशत मरीज इमरजेंसी के आधार पर बिना रेफरल भर्ती कर सकेंगे। दरअसल पहले यूपी के प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना मरीज को भर्ती करने के लिए सीएमओ की मंजूरी वाले लेटर की व्यवस्था थी, जिसको योगी सरकार ने अब खत्म कर दिया है।

सीएमओ के परमिशन लेटर वाली व्यवस्था खत्म

यूपी के मौजूदा हालातों को देखते हुए कोरोना से संक्रमित मरीजों की अधिकतर मौतें अस्पतालों में बेड न मिलने के कारण हुई। अभी तक यूपी के कुछ कोविड अस्पतालों में बेड की उपलब्धता न होने के कारण संक्रमित मरीज भर्ती नहीं हो पा रहे थे। वहीं कुछ अस्पतालों में जहां बेड मौजूद थे, वहां भी सीएमओ का परमिशन लेटर समय से न मिलने के कारण संक्रमित मरीजों को इलाज के लिए भर्ती नहीं किया जा रहा था। लेकिन गुरुवार को उत्तर प्रदेश शासन के अपर मुख्य सचिव की ओर से सभी जिलों के डीएम, मुख्य चिकित्सा अधिकारी और सभी मंडलायुक्तों के लिए खास निर्देश जारी कर दिए गए।सरकार की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि कोरोना संक्रमित मरीज के भर्ती होने से पहले दिखाए जाने वाले सीएमओ के परमिशन लेटर वाली व्यवस्था को खत्म कर दिया गया। इसके चलते अब कोरोना से संक्रमित मरीजों को आपातकालीन स्थिति के बीच प्राइवेट अस्पतालों में बेड खाली होने पर बिना सीएमओ के परमिशन लेटर के तत्काल प्रभाव से भर्ती किया जाएगा।प्रदेश सरकार की ओर से प्राइवेट अस्पतालों में संक्रमित मरीजों की भर्ती के लिए सीएमओ लेटर की बाध्यता खत्म होने के बाद यूपी में कोरोना से संक्रमित मरीजों को प्राइवेट अस्पतालों में भर्ती होने में एक हद तक बड़ी राहत मिलेगी। इसी बीच राजधानी लखनऊ में बेड की उपलब्धता न होने की स्थिति में घर पर ही क्वारन्टीन हुए मरीजों को अभी कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published.