# # # # # # #
लाइव
  • वाराणसी : सिटी स्टेशन पर रेलवे के सिग्नल स्टोर में देर रात लगी भीषण आग, आसपास के घरों में सहमे लोग

वाराणसी: श्रीराम की आरती करने पर महिलाएं इस्लाम से खारिज

#
वाराणसी : मशहूर इस्लामिक शिक्षण संस्था दारुम उलूम देवबंद ने कुछ महिलाओं को इस्लाम से खारिज कर दिया है। इन महिलाओं ने वाराणसी में दीपावली की पूर्व संध्या पर भगवान राम की आरती की थी। इसे दारुम उलूम गुनाह मानता है। बता दें कि दो दिन पहले ही दारुल उलूम देवबंद ने मुस्लिम महिलाओं को सोशल मीडिया पर फोटो पोस्ट न करने का फतवा जारी किया था।  

दारुल उलूम ज़करिया के वरिष्ठ उस्ताद और फतवा ऑन मोबाइल सर्विस के चेयरमैन मुफ्ती अरशद फारुकी समेत अन्य उलेमा-ए-कराम ने कहा कि मुसलमान सिर्फ अल्लाह की इबादत कर सकता है। जिन महिलाओं ने दूसरे मजहबी अकीदे को अपनाते हुए यह सब किया है वह इस्लाम से भी खारिज हैं। इस्लाम में अल्लाह के सिवा किसी दूसरे मजहब के साथ मोहब्बत और नरमी तो बरती जा सकती है, लेकिन पूजा नहीं की जा सकती है। इसलिए बेहतर है कि वह अपनी गलती मानकर दोबारा कलमा पढ़कर इमान में दाखिल हों। इससे पहले भी कुछ महिलाओं ने राम नवमी पर भी भगवान राम के चित्र की आरती की थी। उन्होंने महिलाओं को अल्लाह से माफी मांग कर कलमा पढ़ इमान में दाखिल होने की हिदायत दी है। वाराणसी में एक संस्था के कार्यक्रम में नाजनीन अंसारी नाम की महिला समेत कुछ मुस्लिम महिलाओं ने उर्दू में रचित श्रीराम की आरती और हनुमान चालीसा का पाठ किया था।