# # # # # # #
लाइव
  • वाराणसी : सिटी स्टेशन पर रेलवे के सिग्नल स्टोर में देर रात लगी भीषण आग, आसपास के घरों में सहमे लोग

गाजीपुर : यहां देखिए पैटन टैंक उड़ाने वाली गन

#
गाजीपुर : वीर अब्दुल हमीद ने सन 1965 में जिस आरसीएल गन से पाकिस्तानी सेना के पैटन टैंकों (अमेरिका निर्मित) को उड़ाया था, वह गन अब जनता के देखने गाजीपुर स्थित पार्क में रखी गई है। इसको पहली बार सार्वजनिक किया गया है। यह गन जबलपुर से लाकर वीर अब्दुल हमीद पार्क में एक जीप पर स्थापित की गई है। रविवार को अमर शहीद के शहादत दिवस पर दुल्लहपुर के धामूपुर में राज्यपाल राम नाईक और थल सेनाध्यक्ष विपिन रावत द्वारा वीर अब्दुल हमीद को श्रद्धासुमन अर्पित किए गए। उनकी पत्नी रसूलन बीबी का सम्मान किया गया। परमवीर चक्र विजेता अमर शहीद अब्दुल हमीद को राज्यपाल व आर्मी चीफ द्वारा श्रद्धांजलि अर्पित करते ही मौजूद लोगों का रोम-रोम अब्दुल हमीद की वीरता को याद कर पुलकित हो उठा। 

गाजीपुर के वीर अब्दुल हमीद की सेना में तैनाती 1954 में हुई थी। सन 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में उन्होंने इसी आरसीएल गन से सात, आठ, नौ और दस सितंबर को अजेय माने जाने वाले पांच पैटन टैंकों का उड़ाया था। इसी दौरान वो शहीद भी हुए थे। यह टैंक सामने से 18 इंच मोटी परत वाला था जबकि तब भारत की बेहद विनाशक मानी जानी वाले आरसीएल गन महज 11 इंच की मोटाई भेद सकती थी। पैटन टैंक के पीछे का हिस्सा छह इंच मोटा था लिहाजा वीर अब्दुल हमीद ने जान की परवाह किए बगैर इसके पिछले हिस्से पर वार करने का निर्णय लिया। तरकीब काम कर गई और नतीजा इतिहास में दर्ज हो चुका है।