# # # # # # #
लाइव
  • वाराणसी : सिटी स्टेशन पर रेलवे के सिग्नल स्टोर में देर रात लगी भीषण आग, आसपास के घरों में सहमे लोग

वाराणसी: एसी बसों में दिए जा रहे दो टिकट

#
वाराणसी : गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) लागू होने के बाद से उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम की एसी बसों के यात्रियों को दो टिकट दिए जा रहे हैं। इसमें एक मूल किराए का है तो दूसरा जीएसटी का। इसकी वजह है इलेक्ट्रानिक टिकटिंग मशीन (इटीएम) में पुराना किराया फीड है। इस टिकट के साथ ही वातानुकूलित बसों में लागू पांच फीसद जीएसटी के लिए अलग से मैनुअल टिकट बनाया जा रहा है।

इस दोहरी मेहनत से कंडक्टर तो परेशान हैं ही कुछ यात्री भी किचकिच पर आमादा हो जा रहे हैं। यह नजारे कई बसों में अक्सर नजर आ रहे हैं। वास्तव में इलेक्ट्रानिक टिकटिंग मशीन में सामान्य और एसी बसों के लिए तय किराया फीड है। इसे नए सिरे से परिवर्तित करने के लिए इटीएम के सॉफ्टवेयर में परिवर्तन करना होगा। पहले से जानकारी नहीं होने के कारण इसकी तैयारी भी देर से शुरू हुई। ऐसे में माना जा रहा है कि यह स्थिति एक से दो हफ्तों तक रहेगी। 

जीएसटी लागू होने से बढ़ा किराया 
एसी बसों के किराए में उत्पाद एवं सेवा कर जुड़ जाने से जनरथ में वाराणसी से गोरखपुर का किराया अब 333 रुपए हो गया। पहले इसके लिए 317 रुपए देने होते थे।