September 27, 2022
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • पूर्वांचल न्यूज
  • यूपी:गोरखपुर में ढाई घंटे तक तड़पता रहा कोरोना का मरीज, डाक्‍टरों ने नही किया भर्ती, एंबुलेंस में ही तोड़ा दम

यूपी:गोरखपुर में ढाई घंटे तक तड़पता रहा कोरोना का मरीज, डाक्‍टरों ने नही किया भर्ती, एंबुलेंस में ही तोड़ा दम

By Purvanchalnama Desk on April 13, 2021
0 116 Views
शेयर न्यूज

गोरखपुर-गोरखपुर के बाबा राघव दास (बीआरडी) मेडिकल कालेज में अमानवीयता की तस्वीर सामने आई है।यहां सीधे पहुंचे कोरोना मरीजों भर्ती नहीं किया जा रहा है। सोमवार को खजनी क्षेत्र निवासी 72 वर्षीय कोरोना संक्रमित व्यक्ति ने एंबुलेंस में ही दम तोड़ दिया। ढाई घंटे तक वह एंबुलेंस में ही लेटे रहे। उन्हें भर्ती नहीं किया गया। स्वजन अनुरोध करते रहे लेकिन किसी ने नहीं सुनी। डाक्टर व स्टाफ यही बताते रहे कि बेड फुल है, कोई मरीज डिस्चार्ज होगा तभी भर्ती किया जा सकेगा।

परिजनों की भी नही सुनी

मरीज के स्वजन 108 नंबर एंबुलेंस से उन्हें लेकर दोपहर 12 बजे मेडिकल कालेज के कोरोना वार्ड पहुंचे। स्टाफ ने स्पष्ट कह दिया कि कहीं और ले जाइए, यहां भर्ती नहीं हो पाएंगे। बेड खाली नहीं है। वे बार-बार डाक्टराें व स्टाफ से अनुरोध कर रहे थे। रो रहे थे। लेकिन किसी को दया नहीं आई और अंतत: लगभग 2:30 बजे मरीज ने दम तोड़ दिया।मेडिकल कालेज से रोज ऐसे कई मरीजों को वापस किया जा रहा है। उनकी सुनी नहीं जा रही है। बताया जा रहा है कि आप लोग कोविड कमांड सेंटर के जरिये आइए। सीधे मरीजों को हम भर्ती नहीं कर सकते। मरीज परेशान हैं। हाेम आइसोलेट मरीज की यदि तबीयत अचानक खराब हो गई और स्वजन कोविड कमांड सेंटर में फोन कर भर्ती कराने की प्रक्रिया पूरी करने लगें, तब तक शायद ही मरीज बचे। इसलिए लोग सीधे मेडिकल कालेज पहुंच रहे हैं और वहां निराशा हाथ लग रही है।वही मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य का कहना है कि आइसीयू में सभी बेड फुल हो गए हैं। इसलिए गंभीर मरीजों को भर्ती करने में परेशानी है। मरीजों को भी कोविड कमांड सेंटर के जरिये आना चाहिए, तो उन्हें परेशानी नहीं झेलनी पड़ती। हमारा उद्देश्य मरीजों की जान बचाना है। एक मरीज को भर्ती करने में अधिकतम 15-20 मिनट लगते हैं। तीमारदारों को सलाह है कि वह मरीज को सीधे ले आने की बजाय कोविड कमांड सेंटर के जरिये ही लेकर आएं।


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published.