October 3, 2022
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • बिहार / झारखंड
  • बिहार में बेकाबू हो गया है कोरोना, अस्‍पताल के लिए सरकार ने मांगी सेना की मदद

बिहार में बेकाबू हो गया है कोरोना, अस्‍पताल के लिए सरकार ने मांगी सेना की मदद

By Purvanchalnama Desk on April 14, 2021
0 123 Views
शेयर न्यूज

पटना-बिहार में कोरोना संक्रमण का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है। हालत यह है कि बीते सात दिनों में ही 18466 मरीज मिले हैं, जिनमें 54 की मौत हो गई है। बिहार में सर्वाधिक मरीज पटना में हैं। इसकी एक वजह इसका राजधानी होना है। साथ ही पटना में ही दूसरे राज्‍यों से बिहार आने वाले यात्रियों की भी जांच हो रही है।कोरोना की तेज रफ्तार के कारण राज्‍य के अस्‍पतालों में बेड फुल हो गए हैं। हालात लगातार खराब होती जा रही है। अस्‍पतालों में बेड फुल होने की स्थिति को देखते हुए 15 अप्रैल से पटना के इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (IGIMS) की आइसीयू में 50 बेड पर इलाज की व्‍यवस्‍था की जा रही है। इसके अलावा सरकार ने बिहटा के अस्‍पताल को चालू कराने के लिए सेना से 50 डॉक्‍टर भी मांगे हैं।

अस्पतालों में बेड बढ़ाने में जुटी सरकार

स्‍वास्‍थ्‍य विभाग सभी अस्‍पतालों में कोरोना मरीजों के लिए बेड बढ़ाने में जुटा है। बिहार सरकार ने निजी अस्‍पतालों में भी कोरोना के इलाज के लिए दर निर्धारित कर दी है। हालांकि, यह दर आम आदमी के लिए काफी अधिक है। इस बीच अच्‍छी खबर यह है कि राज्‍य को कोरोना वैक्‍सीन की पांच लाख डोज मिल चुकी है।कोराेनावायरस संक्रमण पर नियंत्रण के लिए बिहार सस्कार ने सेना से मदद मांगी है। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव ने कहा कि उन्‍होंने सेना से 50 डॉक्टर देने की मांग की है, ताकि बिहटा अस्पताल चालू किया जा सके।कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए गया जिला प्रशासन ने कोविड-19 टोल फ्री सेवा शुरू की है। फोन नंबर 18003456613 पर कोई भी व्यक्ति कॉल कर अपनी समस्या बता कर डॉक्‍टरी सेवा का लाभ ले सकता है।बुधवार को अभी तक पटना में चार कोरोना संक्रमितों की मौत हुई है। पटना मेडिकल कॉलेज एवं अस्‍पताल (PMCH) में आरा निवासी 45 साल की महिला, मुंगेर निवासी 56 साल की महिला तथा पटना के कदमकुआं की रहने वाली 70 साल की वृद्धा शामिल हैं। गया में भी दो लोगों की मौत हुई, जिनमें एक जहानाबाद का तो दूसरा गया जिले का रहने वाला था।संक्रमण की रफ्तार तेज हुई है तो रिकवरी रेट में गिरावट आई है। सात दिनों के दौरान यह गिरावट 4.74 फीसद रही है। सात अप्रैल को बिहार में रिकवरी रेट 97.24 फीसद थी, जो वर्तमान में 92.50 फीसद है। इसका बड़ा कारण सक्रिय मामलों का बढ़ना है।बिहार में बीते सात दिनों की बात करें तो सात से 13 अप्रैल तक 54 लोगों की मौत कोरोना से हो गई। ऐसे लोगों में ऑक्सीजन लेवल तेजी से गिरा। संक्रमितों की हालत दूसरे या तीसरे दिन से गंभीर होने लगी। कोरोनावायरस संक्रमण का यह नया ट्रेंड खतरनाक दिख रहा है।बिहार में 13 दिनों के अंदर 20 हजार से अधिक संक्रमित मिल चुके हैं। इसे देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने प्रतिदिन एक लाख से अधिक कोरोनावायरस टेस्‍ट कराने की योजना बनाई है। संभावना है अगले सप्ताह से रोजाना डेढ़ लाख से ज्यादा टेस्ट होने लगेंगे।


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published.