July 6, 2022
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • लाइफस्टाइल
  • योग दिवस : प्रदेश के 75 जिलों में 75 हजार से अधिक स्थानों पर लोगों ने किया योग

योग दिवस : प्रदेश के 75 जिलों में 75 हजार से अधिक स्थानों पर लोगों ने किया योग

By Shakti Prakash Shrivastva on June 21, 2022
0 5 Views
शेयर न्यूज

पूर्वाञ्चलनामा डेस्क

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर आज मंगलवार को प्रदेश के 75 जिलों में लगभग 75 हजार से भी अधिक स्थानों पर योग कार्यक्रम का आयोजन किया गया। प्रदेश के 58 हजार ग्राम पंचायतों, 14 हजार नगरीय निकायों और 03 हजार सांस्कृतिक एवं धार्मिक स्थानों पर यह आयोजन हुआ। राजधानी लखनऊ में राजभवन में आयोजित कार्यक्रम में महामहिम राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित आला अधिकारियों ने हिस्सा लिया। राज्यपाल महोदय ने अपने सम्बोधन में योग को देश के ऋषि-मुनियों का प्रसाद बताते हुए कहा कि पहले यह हमारे देश तक ही सीमित था लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की दें है कि आज इसका परचम पूरी दुनिया में लहरा रहा है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी ने जीवन में स्वास्थ्य के महत्व को बखूबी एहसास कराया साथ ही योग के महत्व को भी स्थापित किया। आज के दिन को एतिहासिक बताते हुए उन्होंने प्रधानमंत्रीजी के मानवता के लिए योग का आह्वान किये जाने पर आवश्यकता जताई कि हम सभी को मिलकर मानवता की रक्षा के लिए काम करने होंगे। योगाभ्यास कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी का भारत की ऋषि परम्परा के उपहार योग को देश और दुनिया में पहुंचाने के लिए धन्यवाद देते हुए कहा कि आज दुनिया के 200 से अधिक देश अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस पर योग से जुड़कर भारत की ऋषि परम्परा और विरासत के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित कर रहे हैं। अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस हमारी योग रूपी विरासत पर हम सबको गौरवान्वित होने का एक माध्यम है। प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन में अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के इस वर्ष की थीम ‘मानवता के लिए योग’ है। मुख्यमंत्री जी ने अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर प्रदेशवासियों को बधाई देते हुए कहा कि योग का पहला नियम अनुशासन है। योग हमें अनुशासन में बांधकर निरोगता और शारीरिक एवं मानसिक विकास की ओर लेकर जाता है। योग एक छोटी सी व्यवस्था से एक बड़े आयाम की ओर हम सबको ले जाने का कार्य करता है। यदि शरीर स्वस्थ है, तो धर्म के सभी साधन स्वयं क्रमवार सफल होते जाएंगे, लेकिन यदि शरीर आरोग्य नहीं है तो धर्म का कोई भी साधन सफल नहीं हो सकता। नियमित योगाभ्यास करने वाले व्यक्तियों पर बुढ़ापे एवं रोग का असर नहीं पड़ता। योग से स्वस्थ शरीर को प्राप्त किया जा सकता है। इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को योग से जुड़ना चाहिए। योग मानवता के कल्याण का माध्यम है। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। सौभाग्य है कि हम सब देश की आजादी के 75वें वर्ष के उत्सव के सहभागी हैं। आजादी के अमृत महोत्सव वर्ष में प्रदेश सरकार प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन में मानवता के लिए योग के लक्ष्य को पूरा कर रही है। कोरोना महामारी, युद्ध की विभीषिका, अन्तर्कलह, भौतिकता के पीछे भागती मानवता की संकीर्ण सोच जैसे भावों को दुनिया बहुत नजदीक से महसूस कर रही है। इन विपरीत परिस्थितियों में भी प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन एवं आह्वान में आज देश में 25 करोड़ योग साधक यौगिक क्रियाएं सम्पन्न कर रहे हैं। प्रदेश सरकार के प्रयासों से आज राज्य के 75 हजार से अधिक स्थानों पर योग के कार्यक्रम सम्पन्न किये जा रहे हैं। समस्त जनप्रतिनिधिगण, आयुष विभाग, शासन-प्रशासन के अधिकारियों ने एक संकल्प के साथ मिलकर योग के इन कार्यक्रमों को सम्पन्न कराने के लिए प्रयास किया है। परिणामस्वरूप प्रदेश के 75 हजार से अधिक स्थानों पर एक साथ योग के कार्यक्रम सफलतापूर्वक सम्पन्न हो रहे हैं जिसमें 3.5 करोड़ लोगों के लक्ष्य से अधिक लगभग 05 करोड़ लोग सहभागिता कर रहे हैं। इस अवसर पर प्रदेश के आयुष राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) दयाशंकर मिश्र ‘दयालु’ ने भी संबोधित किया।


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *