July 6, 2022
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • टॉप न्यूज
  • देश में धार्मिक पर्यटन का हब बनेगा उत्तर प्रदेश

देश में धार्मिक पर्यटन का हब बनेगा उत्तर प्रदेश

By Shakti Prakash Shrivastva on May 13, 2022
0 28 Views
शेयर न्यूज

शक्ति प्रकाश श्रीवास्तव

उत्तराखंड जब उत्तर प्रदेश का हिस्सा हुआ करता था। तो उत्तर प्रदेश में पर्यटन से होने वाली सर्वाधिक आय पहाड़ी हिस्से से हुआ करती थी। उत्तराखंड एक अलग राज्य बनने के बाद से आज तक यूपी सरकार लगातार इस प्रयास में लगी हुई है कि पहाड़ से होने वाली पर्यटन की आय में कमी को किन अन्य तरीकों से भरपाई की जाए। उत्तर प्रदेश की मौजूदा सरकार ने धार्मिक पर्यटन के रूप में एक विकल्प तैयार किया है। उत्तर प्रदेश के पर्यटन मंत्री जयवीर सिंह ने शुक्रवार को इटावा में इस बात का स्पष्ट उल्लेख करते हुए कहा कि हमारे पास श्रीराम-कृष्ण और बुद्ध हैं। आज बड़ी संख्या में विदेशों से पर्यटक इनसे जुड़े देव स्थानों को देखने के लिए पहुँच रहे हैं। यह देखते हुए ही सरकार वाराणसी, मथुरा और अयोध्या को एक योजनाबद्ध तरीके से विकसित कर रही है। जिस तरह से सरकार का फोकस इस तरह के पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए दिख रहा है वह दिन दूर नही जब यूपी देश में धार्मिक टुरिज्म का एक बड़ा हब बन जाएगा। इतना ही नहीं धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के साथ ही सरकार प्रदेश में इको टुरिज्म को प्रोत्साहित करने का काम भी कर रही है। आज सरकार के प्रयासों का ही प्रतिफल है कि आगरा आने वाला पर्यटक अयोध्या और प्रयाग का रुख भी कर रहा है। मंत्री के मुताबिक एक वक्त था जब आगरा पहुँचने वाला पर्यटक आगरा में  ताजमहल घूमने के दौरान एक घंटे बाद राजस्थान चला जाता था। वर्तमान की बीजेपी सरकार विदेशी पर्यटकों के लिए यमुना एक्सप्रेस वे से हेलीपोर्ट के जरिए गोवर्धन परिक्रमा कराने की व्यवस्था सुनिश्चित कराने जा रहा है। पिछले कुम्भ की व्यवस्था से प्रभावित श्रद्धालु पर्यटक अब प्रयागराज में संगम स्नान के लिए भी बड़ी संख्या में पहुँच रहे है। सरकार के इस प्रयास की पर्यटन उद्योग से जुड़े कारोबारियों में भी खासा उत्साह दिख रहा है। केंद्र सरकार की सस्ती हवाई सेवा ‘उड़ान’ का भी इस प्रयास में खासा फायदा मिल रहा है। इस योजना के तहत वाराणसी, गोरखपुर, प्रयागराज, लखनऊ, कानपुर, आगरा सहित कई शहरों के बीच सस्ते दर पर हवाई यात्रा कराने की योजना है। कुछ शहरों में सेवा शुरू भी हो गई है। गाजियाबाद में बन रहा अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा और कुशीनगर में शुरू हो चुका अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा सरकार के धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने संबंधी सोच को पंख लगाने सरीखा साबित होगा। जानकारों के मुताबिक सरकार यदि इसी तरह राम, कृष्ण, बुद्ध, कबीर, शिव, जैन संबंधित तीर्थ केंद्रों का प्रचार-प्रसार करे तो निःसंदेह उत्तराखंड के अलग होने से पर्यटन की आय में हुई कमी से न केवल निजात पाई जा सकती है बल्कि वृद्धि की जा सकती है।


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *