August 12, 2022
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

देश में ‘बच्चों’ को कोरोना वैक्सीन अभी नहीं…

By Shakti Prakash Shrivastva on October 13, 2021
0 183 Views
शेयर न्यूज

नयी दिल्ली, (संवाददाता)। देश में 18 साल से कम उम्र के बच्चों को कोरोना वैक्सीन के लिए अभी कुछ समय और इंतजार करना पड़ेगा। हालांकि मीडिया में खबर आई थी कि केंद्र सरकार की संस्था ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने 18 साल से कम उम्र के बच्चों को भी स्वदेशी कोवैक्सीन लगाने की मंजूरी दे दी है। लेकिन केंद्र सरकार के स्वास्थ्य राज्यमंत्री भारती प्रवीण पवार ने इस खबर की पुष्टि से इंकार किया है। उन्होंने कहा कि मंजूरी को लेकर कुछ कन्फ़्यूजन है। अभी इस पर काम चल रहा है। हमारा इसमें कोई हस्तक्षेप नहीं है इसमें विशेषज्ञ निर्णय लेंगे।

कोरोना की तीसरी लहर कि संभावनाओं को देखते हुए DCGI की सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी ने 12 मई को 18 साल से कम उम्र के बच्चों पर स्वदेशी वैक्सीन ‘कोवैक्सिन’ के ट्रायल की सिफारिश की थी। इसी के तहत DCGI द्वारा मिली ट्रायल की मंजूरी के बाद भारत बायोटेक ने बच्चों पर कोवैक्सिन का ट्रायल जून में शुरू किया था। हालंकि अभी इसकी अंतिम मंजूरी बाकी है। दुनिया के अलग-अलग देशों में भी इसी तरह के ट्रायल्स के बाद बच्चों के लिए वैक्सीन को अप्रूवल दिया गया है। अमेरिका मई से फाइजर की वैक्सीन को 12 साल से ज्यादा उम्र के सभी बच्चों को लगाना शुरू कर चुका है। अगले साल तक वहां 12 साल से कम उम्र के बच्चों को भी वैक्सीनेशन की शुरुआत हो सकती है। यूरोपियन यूनियन ने 23 जुलाई को मॉडर्ना की वैक्सीन को बच्चों के लिए अप्रूव किया है। 12 से 17 साल तक के बच्चों को यूरोपियन यूनियन में मॉडर्ना की वैक्सीन लगाई जाएगी। 19 जुलाई को UK ने 12 साल तक के बच्चों को फाइजर वैक्सीन लगाने की अनुमति दी है। हालांकि, अभी केवल मोर्बिडिटी वाले बच्चों को ही वैक्सीन दी जा रही है। सितंबर तक मॉडर्ना की वैक्सीन को भी अप्रूवल मिलने की संभावना है। इजराइल भी 12 साल तक के सभी बच्चों को वैक्सीनेट करना शुरू कर चुका है। इजराइल ने जनवरी में 16 साल तक के बच्चों का वैक्सीनेशन शुरू किया था। जून में वैक्सीनेशन का दायरा बढ़ाने के लिए 12 साल तक के बच्चों को भी वैक्सीन देने की शुरुआत की गई। कनाडा उन देशों में से है, जहां सबसे पहले बच्चों को वैक्सीनेशन की शुरुआत हुई। कनाडा ने दिसंबर 2020 में ही 16 साल तक के सभी लोगों के लिए फाइजर की वैक्सीन को अप्रूवल दे दिया था। मई में वैक्सीनेशन का दायरा बढ़ाते हुए 12 साल तक के बच्चों को भी इसमें शामिल किया गया। इसके अलावा माल्टा, चिली जैसे कई छोटे देशों ने भी बच्चों को वैक्सीनेट करना शुरू कर दिया है। इन देशों ने अपनी आबादी के एक बड़े हिस्से को वैक्सीनेट कर दिया है और अब पूरी आबादी को वैक्सीनेट करने के लिए बच्चों को भी वैक्सीनेशन प्रोग्राम में शामिल किया जा रहा है। देश में संबन्धित संस्थाओं की क्रियाशीलता को देखते हुए अनुमान है कि जल्द ही देश में भी वैक्सीन लगाने की इजाजत मिल जाएगी।

 


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *