June 30, 2022
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • बिहार / झारखंड
  • शहाबुद्दीन की कब्र पर विवाद : मौत के बाद भी सुर्खियों में ‘साहब’

शहाबुद्दीन की कब्र पर विवाद : मौत के बाद भी सुर्खियों में ‘साहब’

By Shakti Prakash Shrivastva on June 6, 2021
0 108 Views
शेयर न्यूज

पटना, (ब्यूरो)। जीते जी विवादों से चोली-दामन का साथ रखने वाले बिहार के माफिया डान शहाबुद्दीन का मरने के बाद भी  विवादों से रिश्ता नही छूट रहा है। अब ताजा विवाद उनकी कब्र को लेकर है। कोरोना से हुई मौत के बाद परिजनों ने उनके शव को दिल्ली गेट स्थित जदीद कब्रिस्तान में था। कब्र को उनके परिजनों द्वारा पक्का बनाया जा रहा था जिस पर जदीद कब्रिस्तान कमेटी ने विरोध करते हुए निर्माण कार्य रोक दिया। कमेटी की मुताबिक जमीन की कमी होने की वजह से पक्की कब्र बनाने की मनाही है।

हुआ यूं की शहाबुद्दीन के परिजनों ने पक्की कब्र बनाने के लिए बालू-गिट्टी-सीमेंट-ईंट-सरिया वहां लाकर इकट्ठा कर दिया था। जब निर्माण शुरू हुआ तो कब्रिस्तान कमिटी को पता चला कि बिना मंजूरी लिए उनके परिजन पक्की कब्र बना रहे हैं। तब तक कब्र के चारों तरफ दीवारें बना गई थी। फिर, कमिटी के सदस्यों ने शहाबुद्दीन के परिजनों से पक्की कब्र बनाने के लिए परमिशन की मांग की। लेकिन, उनके परिजनों के पास परमिशन की कॉपी नहीं थी। फिर कब्रिस्तान कमिटी ने इस पर रोक लगा दी। रोक के बाद भी शहाबुद्दीन के कब्र का पक्कीकरण का काम चलता रहा। कब्रिस्तान की कमेटी ने उसे रुकवाने की भी कोशिश की। लेकिन, शहाबुद्दीन के परिजन नहीं माने। पुलिस में मामला जाने पर काम रुका। 1992 में ही कब्रिस्तान कमेटी ने एक कानून बनाकर जदीद कब्रिस्तान में कब्र को पक्की करने पर रोक लगा दी थी। तिहाड़ जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे शहाबुद्दीन कोविड-19 से संक्रमित हो गए थे। 1 मई को शहाबुद्दीन की मौत इलाज के दौरान हो गई थी। उनके परिजन शव को बिहार के सीवान में पैतृक गांव प्रतापपुर में दफनाना चाहते थे। लेकिन कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए इसकी इजाजत नहीं दी गई थी। आखिर में शहाबुद्दीन के शव को दिल्ली गेट के जदीद कब्रिस्तान में दफना दिया गया था।

 


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *