June 30, 2022
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • पूर्वांचल न्यूज
  • योगी की संवेदनशील पहल: कोरोना से अनाथ हुए बच्चों की ज़िम्मेदारी सरकार पर, CM बाल सेवा योजना में होगा पालन

योगी की संवेदनशील पहल: कोरोना से अनाथ हुए बच्चों की ज़िम्मेदारी सरकार पर, CM बाल सेवा योजना में होगा पालन

By Shakti Prakash Shrivastva on May 29, 2021
0 160 Views
शेयर न्यूज

लखनऊ, (मुख्य संवाददाता)। कोरोना संक्रमण ने बहुतेरे बच्चों से उनके अभिभावक का साया छीन लिया है। लेकिन प्रदेश की योगी सरकार संवेदनशीलता का परिचय देते हुए उनके पालनहार के रूप में सामने आई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इन बच्चों के लिए उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना शुरू करने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री की घोषणा की मुताबिक ऐसे बच्चे जिन्होंने कोविड-19 के कारण अपने माता-पिता अथवा यदि उनमें से एक ही जीवित थे, तो उन्हें अथवा विधिक अभिभावक को खो दिया हो और जो अनाथ हो गए हों तो राज्य सरकार द्वारा उनकी समुचित देखभाल की जाएगी। इसी भावना के साथ उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना प्रारंभ की जा रही है।

बच्चो की देखभाल करने वाले को रु.4,000 प्रतिमाह

इस योजना के तहत बच्चे के वयस्क होने तक उनके अभिभावक अथवा देखभाल करने वाले को ₹4,000 प्रति माह की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। दस वर्ष की आयु से कम के ऐसे बच्चे जिनका कोई अभिभावक अथवा परिवार नहीं है, ऐसे सभी बच्चों को प्रदेश सरकार द्वारा भारत सरकार की सहायता से अथवा अपने संसाधनों से संचालित मथुरा, लखनऊ प्रयागराज, आगरा एवं रामपुर में संचालित राजकीय बाल गृह (शिशु) में देखभाल की जाएगी। हैं।

बालिकाओं के विवाह हेतु रु. 1,01,000 का प्रावधान

अवयस्क बालिकाओं की देखभाल सुनिश्चित की जाएगी। इन्हें भारत सरकार की कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों (आवासीय) में अथवा प्रदेश सरकार की राजकीय बाल गृह (बालिका) में रखा जाएगा। वर्तमान में प्रदेश में 13 ऐसे बाल गृह संचालित हैं। इतना ही नहीं बालिकाओं के विवाह की समुचित व्यवस्था के लिए प्रदेश सरकार बालिकाओं की शादी हेतु रुपये 1,01,000 की राशि उपलब्ध कराएगी। स्कूल अथवा कॉलेज में पढ़ रहे अथवा व्यावसायिक शिक्षा ग्रहण कर रहे ऐसे सभी बच्चों को टैबलेट/लैपटॉप की सुविधा उपलब्ध कराएगी।


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *