July 27, 2021
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • टॉप न्यूज
  • स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन का योगगुरु रामदेव को पत्र, एलोपैथी पर बयान दुर्भाग्यपूर्ण, वापस लें

स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन का योगगुरु रामदेव को पत्र, एलोपैथी पर बयान दुर्भाग्यपूर्ण, वापस लें

By Shakti Prakash Shrivastva on May 23, 2021
0 27 Views
शेयर न्यूज

नयी दिल्ली,(एजेंसी)। एलोपैथी और डाक्टरों पर योगगुरु बाबा रामदेव द्वारा दिये गए बयान पर उठा विवाद अब गहराता जा रहा है। बयान पर विवाद बढ़ता जा रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने आज बाबा रामदेव को पत्र लिखकर बयान वापस लेने की मांग की है। हर्षवर्धन ने रामदेव के बयान को कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे डॉक्टरों का निरादर करने वाला और दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। मालूम हो कि सोशल मीडिया पर बयान के वायरल होने के बाद आईएमए समेत डॉक्टरों की विभिन्न संस्थाओं ने रामदेव के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। हालांकि बाद में पतंजलि योगपीठ ने बयान जारी कर कहा था कि रामदेव की गलत मंशा नहीं थी।

मंत्री ने पत्र मे लिखा है की आपका यह कहना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि लाखों कोरोना मरीजों की मौत एलोपैथी दवा खाने से हुई। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि कोरोना महामारी के खिलाफ यह लड़ाई सामूहिक प्रयासों से ही जीती जा सकती है। इस लड़ाई में हमारे डॉक्टर, नर्सें और दूसरे स्वास्थ्यकर्मी जिस तरह अपनी जान जोखिम में डालकर लोगों को बचाने में दिन.रात जुटे हैं। वह कर्तव्य और मानव सेवा के प्रति उनकी निष्ठा की अतुलनीय मिसाल है।

डॉ हर्षवर्धन ने बयान को बताया दुर्भाग्यपूर्ण

डॉ हर्षवर्धन ने यह भी कहा कि आपके द्वारा कोरोना के इलाज में एलोपैथी चिकित्सा को तमाशा, बेकार और दिवालिया बताना दुर्भाग्यपूर्ण है। आपका बयान डॉक्टरों के मनोबल को तोड़ने और कोरोना के खिलाफ लड़ाई को कमजोर करने वाला साबित हो सकता है। रामदेव से बयान वापस लेने की मांग करते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि आप इस विषय पर गंभीरतापूर्वक विचार करते हुए और विश्वभर के कोरोना योद्धाओं की भावनाओं का सम्मान करते हुए अपना आपत्तिजनक और दुर्भाग्यपूर्ण बयान पूरी तरह से वापस लें।

गलत मंशा नहीं थी-पतंजलि योगपीठ

पतंजलि योगपीठ की सफाई रामदेव की कोई गलत मंशा नहीं

वहीं भारतीय चिकित्सा संघ (आईएमए) द्वारा लगाए गए उन आरोपों को पतंजलि योगपीठ ने खारिज किया कि योगगुरु रामदेव ने ऐलोपैथी के खिलाफ अज्ञानतापूर्ण बयान देकर लोगों को गुमराह किया और वैज्ञानिक चिकित्सा को बदनाम किया। हरिद्वार स्थिति पतंजलि योगपीठ ट्रस्ट ने एक बयान जारी कर कहा कि रामदेव चिकित्सकों और चिकित्साकर्मियों का बेहद सम्मान करते हैं जो महामारी के ऐसे चुनौतीपूर्ण समय में दिन.रात काम करते हैं।


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *