July 3, 2022
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • टॉप न्यूज
  • चित्रकूट जेल में गैंगवार: मुख्तार के करीबी समेत दो की हत्या,आरोपी ढेर, सीएम योगी ने मांगी रिपोर्ट

चित्रकूट जेल में गैंगवार: मुख्तार के करीबी समेत दो की हत्या,आरोपी ढेर, सीएम योगी ने मांगी रिपोर्ट

By Purvanchalnama Desk on May 14, 2021
0 133 Views
शेयर न्यूज

लखनऊ-यूपी के चित्रकूट जेल में शुक्रवार को गैंगवार की घटना सामने आई।जेल गोलियों की तड़तड़ाहट से थर्रा उठा। सीतापुर के शार्प शूटर अंशुल दीक्षित ने दो टॉप मोस्ट अपराधियों वसीम काला और मिराजुद्दीन को गोलियों से भून डाला। बाद में पुलिस ने मुठभेड़ में अंशुल उर्फ अंशू को भी मार गिराया। मिराजुद्दीन मुख्तार गैंग का शातिर अपराधी बताया जा रहा है। जेल में गोलियां चलने की आवाज सुनकर जेल प्रशासन में हड़कंप मच गया। इधर जिले के अधिकारियों को सूचना दी गई। मौके पर भारी पुलिस फोर्स पहुंची। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस प्रकार की घटना पर बेहद नाराजगी जताने के साथ ही सिर्फ छह घंटे के अंदर ही इस मामले की रिपोर्ट मांगी है।

पुलिस एनकाउंटर में आरोपी भी ढेर

जेल सूत्रों के मुताबिक शातिर अपराधी अंशुल कई महीने से जेल में निरुद्ध है। वेस्ट यूपी के गैंगस्टर वसीम काला और पूर्वांचल के मुख्तार गैंग का गुर्गे मिराजुद्दीन को भी काफी दिनों पहले चित्रकूट जेल में लाया गया था। शुक्रवार सुबह अंशुल ने मौका पाकर पिस्टल से दोनों बदमाशों पर ताबड़तोड़ गोलियां चला दीं। जब तक सुरक्षाकर्मी कुछ समझ पाते कई राउंड गोलियां वसीम और मेराजुद्दीन पर उतार दीं। दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। इसके बाद सुरक्षाकर्मियों ने अंशुल को ललकारा और आत्मसमर्पण करने को कहा, लेकिन उसने सुरक्षा कर्मियों पर फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी फायरिंग में वह पुलिस की गोली से मारा गया। खबर मिलते ही आईजी, कमिश्नर, डीएम, एसपी समेत सारे आला अफसर जेल पहुंच गए। घंटेभर के अंदर जेल के अंदर कई थानों का फोर्स भी मोर्चा लेने पहुंच गई। मारा गया बदमाश मुकीम सहारनपुर जेल से ट्रांसफर होकर आया था जबकि मुख्तार का गुर्गा मेराजुद्दीन बनारस से लाया गया था। बताया जा रहा है कि अंशु दीक्षित ने मुकीम, मेराजुद्दीन के अलावा तीन अन्य कैदियों पर भी हमला किया था। हालांकि अभी इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है।बताते चलें कि सीतापुर जिले के मानकपुर कुड़रा बनी का मूल निवासी अंशुल उर्फ अंशू दीक्षित लखनऊ विश्वविद्यालय में छात्र के रूप दाखिला लेने के बाद अपराधियों के संपर्क में आया। वर्ष 2008 में वह गोपालगंज (बिहार) के भोरे में अवैध असलहों के साथ पकड़ा गया था। अंशुल को 2019 में दिसंबर में सुल्तानपुर जेल में वीडियो वायरल होने के बाद चित्रकूट जेल भेजा गया था।


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *