June 30, 2022
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • टॉप न्यूज
  • हिंद महासागर में मालदीव-श्रीलंका के पास गिरा अनियंत्रित चीनी रॉकेट का मलबा,धरती से बड़ा खतरा टला

हिंद महासागर में मालदीव-श्रीलंका के पास गिरा अनियंत्रित चीनी रॉकेट का मलबा,धरती से बड़ा खतरा टला

By Purvanchalnama Desk on May 9, 2021
0 102 Views
शेयर न्यूज

शंघाई (एजेंसी)- अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन ने कुछ दिन पहले चीन के जिस लॉन्ग मार्च 5बी रॉकेट के धरती से टकराने की चेतावनी दी थी वह आखिरकार हिंद महासागर में आ गिरा है। चीनी मीडिया के मुताबिक यह भारत के दक्षिणपूर्व में श्रीलंका और मालदीव के आसपास कहीं पानी में गिरा है। अमेरिकी स्पेस फोर्स के डेटा के मुताबिक यह 18 हजार मील प्रतिघंटा की रफ्तार से धरती की ओर बढ़ रहा था जिस कारण यह कहां लैंड करेगा इसे लेकर पुष्टि नहीं की जा सकी थी। फिलहाल इसके गिरने से किसी नुकसान की जानकारी नहीं है।2021-035B नाम का यह रॉकेट 100 फुट लंबा और 16 फुट चौड़ा था। वायुमंडल में दाखिल होने पर इसका बड़ा हिस्सा जल गया और बाकी पानी में जा गिरा।

वायुमंडल में ही नष्ट हुआ अधिकांश हिस्सा

अमेरिकी मिलिट्री डाटा का प्रयोग करने वाली स्पेस मॉनिटरिंग एजेंसी ‘स्पेस ट्रैक’ ने भी इस बात की पुष्टि की कि रॉकेट क्रैश हो चुका है। ‘स्पेस ट्रैक’ ने ट्विटर पर एक पोस्ट में कहा, ‘लॉन्ग मार्च 5b के पृथ्वी में प्रवेश करने पर नजर बनाने वाले लोग अब आराम कर सकते हैं। रॉकेट गिर चुका है।आप लोग सभी जरूरी जानकारी को ट्विटर/फेसबुक पर देख सकते हैं। इस बात को लेकर तरह-तरह की आशंकाएं जताई जा रही थीं कि 18 टन वजनी चीनी रॉकेट कहां गिरेगा। रॉकेट के गिरने की वजह से लोगों के बीच चिंता की लहर थी।हालांकि, अब चीन के सरकारी मीडिया ने रॉकेट के मलबे को लेकर जानकारी दे दी है और कहा कि वातावरण में प्रवेश करने के दौरान इसका बड़ा हिस्सा खुद नष्ट हो गया।बता दें, चीनी रॉकेट का एक बड़ा हिस्सा अनियंत्रित होकर पृथ्वी के चारों ओर चक्कर लगा रहा था। आशंका जताई जा रही थी कि चीनी रॉकेट का यह हिस्सा 9 मई को धरती पर गिर सकता है। यह कब और कहां गिरेगा इसका शुरू में पता नहीं था। नासा समेत दुनियाभर की अंतरिक्ष एजेंसियां इसपर नजर रखे हुए थे। पिछले हफ्ते चीन ने अपना स्पेस स्टेशन बनाने के लिए पहला मॉड्यूल लॉन्च किया था। बाद में रॉकेट का यह हिस्सा अनियंत्रित हो गया और अब धरती में वापस गिर गया है। अगर रॉकेट का यह हिस्सा किसी आबादी वाले क्षेत्र में गिरता, तो बड़ी तबाही मचा सकता था। हिंद महासागर के जिस इलाके में रॉकेट का मलबा गिरा है, वो मालदीव के खासा करीब है। एजेंसी ने कहा कि वातावरण में प्रवेश करने के दौरान अधिकतर हिस्सा जलकर राख हो गया। इस तरह रॉकेट के क्रैश होने को लेकर चिंतित दुनियाभर की सरकारों और लोगों ने राहत की सांस ली है। ये रॉकेट चीन के दक्षिणी हैनान प्रांत से 29 अप्रैल को लॉन्च किया गया था।


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *