July 6, 2022
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • दिल्ली / एन सी आर
  • सरकार के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार ने कहा-सावधानी बरतें तो नहीं आएगी कोरोना की तीसरी लहर

सरकार के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार ने कहा-सावधानी बरतें तो नहीं आएगी कोरोना की तीसरी लहर

By Purvanchalnama Desk on May 7, 2021
0 131 Views
शेयर न्यूज

नई दिल्ली(एजेंसी)- भारत में कोरोना की तीसरी लहर को काबू किया जा सकता है।केंद्र सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकर के विजय राघवन ने शुक्रवार को कहा कि यदि हम मजबूत उपाय करते हैं तो ऐसा संभव है कि देश में कोरोना की तीसरी लहर कहीं ना आए। हालांकि यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि स्थानीय, राज्यों, जिला वार और शहरों के स्तर पर सभी जगह किस स्तर से प्रभावी गाइडेंस का पालन किया गया है।इससे पहले विजय राघवन ने ही भारत में जल्द कोरोना की तीसरी लहर आने की चेतावनी दी थी। उन्होंने बुधवार को कहा था कि जिस तरह तेजी से वायरस का प्रसार हो रहा है कोरोना महामारी की तीसरी लहर आनी तय है, लेकिन यह साफ नहीं है कि यह तीसरी लहर कब और किस स्तर की होगी।

‘रोक सकते हैं तीसरी लहर’

राघवन ने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर आएगी या नहीं यह इस पर निर्भर करता है कि हम सब किस तरह गाइडलाइंस का पालन करते हैं। व्यक्तिगत स्तर पर, लोकल स्तर पर, राज्य स्तर पर और सभी जगह अगर सावधानी बरतें और गाइडलाइन को पालन करें तो कोरोना की तीसरी लहर को आने से रोक सकते हैं। उन्होंने कहा कि यह सुनने और बोलने में मुश्किल लगता है लेकिन यह मुमकिन है। उन्होंने कहा कि सावधानी बरतने को लेकर, सर्विलांस को लेकर, कंटेनमेंट, टेस्टिंग और ट्रीटमेंट को लेकर गाइडलाइंस को फॉलो करने पर कोरोना को रोकना मुश्किल नहीं है।राघवन ने कहा कि दुनिया भर में और भारत में अलग अलग जगह अलग अलग वक्त में पीक आया है और यह समझना जरूरी है कि कब और क्यों संक्रमण बढ़ता है। उन्होंने कहा कि संक्रमण तब बढ़ता है जब कोरोना वायरस को मौका मिलता है। अगर उसे मौका नहीं मिलेगा तो वह संक्रमित भी नहीं कर पाएगा।उन्होंने कहा- जिन लोगों ने वैक्सीन ली है, मास्क पहनते हैं, पूरी सावधानी बरतते हैं वह सुरक्षित हैं। लेकिन अगर वायरस को नए मौके मिलेंगे तो केस भी बढ़ेंगे। ऐसे लोग भी हो सकते हैं जो पहले सावधानी बरतते थे लेकिन बाद में लापरवाह हो गए। ऐसे में केस बढ़ते हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना के फैलने के साइज को कम करना और इसकी फ्रिक्वेंसी को कम करना हमारे हाथ में है। उन्होंने कहा कि ऐसे लोग जो संक्रमित हैं पर बिना लक्षण के हैं, वे दूसरों को संक्रमित कर सकते हैं इसलिए ज्यादा सावधानी की जरूरत है।


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *