June 30, 2022
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • टॉप न्यूज
  • पश्चिम बंगाल पहुंचे जेपी नड्डा, कहा ‘आजाद भारत में चुनाव के बाद नहीं देखा ऐसा इनटॉलरेंस’

पश्चिम बंगाल पहुंचे जेपी नड्डा, कहा ‘आजाद भारत में चुनाव के बाद नहीं देखा ऐसा इनटॉलरेंस’

By Purvanchalnama Desk on May 4, 2021
0 101 Views
शेयर न्यूज

कोलकाता(एजेंसी)- बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा मंगलवार दोपहर को कोलकाता पहुंचे।कोलकाता पहुंचने के साथ ही उन्होंने बीजेपी के केंद्रीय प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय, प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष, केंद्रीय सह प्रभारी शिवप्रकाश, पूर्व अध्यक्ष राहुल सिन्हा और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय सहित अन्य राज्य के नेताओं के साथ बैठक की।पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के बाद से ही राज्य भर में बीजेपी के कार्यकर्ताओं की हत्याएं, उनके घर और दफ्तरों पर हो रहे लगातार हमले, आगजनी, लूटपाट पर चिंता जताते हुए कहा कि बीजेपी प्रजातांत्रिक तरीके से टीएमसी की अराजकता का मुकाबला करेगी और बीजेपी कार्यकर्ताओं की शहादत बेकार नहीं जाएगी।

पीड़ित भाजपा कार्यकर्ताओं से की मुलाकात

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा बंगाल में हिंसा के पीड़ित बीजेपी कार्यकर्ता के दक्षिणी 24-परगना आवास पर गए और उनके परिजन से मुलाकात की। नड्डा ने कहा, ‘चुनाव के नतीजे आने के बाद टीएमसी के गुंडे (बीजेपी कार्यकर्ता) हरन अधिकारी के घर गए और तोड़फोड़ की। महिलाओं और बच्चों को धमकाया, उन पर हमला किया। अधिकारी की पत्नी के दांत तोड़ दिए। इसके बाद उन्होंने अधिकारी को खींचकर घर से बाहर निकाला और उन्हें बुरी तरह पीटा। उनकी मौत हो गई।’जेपी नड्डा ने कहा कि बंगाल विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद जो हुआ है, उन घटनाओं से हम चिंतित हैं और सदमे में हैं। मैंने ऐसी घटनाएं भारत के विभाजन के दौरान ही सुनी थीं। आजाद भारत में चुनाव नतीजों के बाद हमने कभी इस तरह की हिंसा नहीं देखी। इस बीच पीएम नरेंद्र मोदी ने बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ से फोन पर बातचीत कर चिंता जताई है। यही नहीं बीजेपी की ओर से सुप्रीम कोर्ट में भी अर्जी दाखिल कर हिंसा की सीबीआई जांच कराने की मांग की है। बीजेपी के प्रवक्ता गौरव भाटिया ने शीर्ष अदालत में अर्जी दाखिल की है।गौरव भाटिया ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल कर मांग की है कि चुनाव के बाद हुई भीषण हिंसा की सीबीआई से जांच कराई जानी चाहिए। इसके अलावा उन्होंने अर्जी में सुप्रीम कोर्ट से मांग की है कि वह बंगाल सरकार से रिपोर्ट तलब करे कि आखिर चुनाव नतीजों के बाद हुई हिंसा को रोकने के लिए उसकी ओर से क्या कदम उठाए गए हैं।


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *