July 6, 2022
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • टॉप न्यूज
  • केवल कोरोना के गंभीर मरीजों को मिलेगा रेमडेसिविर इंजेक्शन; निर्यात बंद कर उत्‍पादन बढ़ाने को मंजूरी

केवल कोरोना के गंभीर मरीजों को मिलेगा रेमडेसिविर इंजेक्शन; निर्यात बंद कर उत्‍पादन बढ़ाने को मंजूरी

By Purvanchalnama Desk on April 15, 2021
0 159 Views
शेयर न्यूज

नई दिल्ली(एजेंसी)- कोरोना महामारी की दूसरी लहर के कारण हाहाकार मचा है। देश के सबसे अधिक संक्रमित राज्य महाराष्ट्र समेत अधिकांश हिस्सों में रेमडेसिविर इंजेक्शन की मांग काफी बढ़ गई है। इसके मद्देनजर हाल में ही सरकार ने रेमडेसिविर के निर्यात पर जहां रोक लगा दी है वहीं अब देश में रेमडेसिविर इंजेक्शन के उत्पादन और आपूर्ति बढ़ाने तथा इसकी कीमत कम करने का फैसला किया है।रेमडेसिविर इंजेक्शन नहीं मिलने को लेकर अस्पताल में भर्ती मरीज़ों के परिजनों ने पुणे के जिला कलेक्टर ऑफिस के बाहर प्रदर्शन किया। पुणे के एडिशनल कलेक्टर विजय देशमुख ने गुरुवार को कहा, ‘हमारे यहां क़रीब 45,000 इंजेक्शन की मांग है, हम इंजेक्शन का स्टॉक बराबर बांट रहे हैं। चार-पांच दिन में हालात ठीक हो जाएंगे।

केवल गंभीर मरीजों को मिलेगा इंजेक्शन

कोविड प्रोटोकॉल के मुताबिक सिर्फ गंभीर मरीज़ों को ही रेमडेसिविर देना है, प्रोटोकॉल के हिसाब से ज़्यादा मांग हो रही है।’मध्यप्रदेश के इंदौर एयरपोर्ट पर आज 9,264 रेमडेसिविर इंजेक्शन की खेप पहुंची जिसे भोपाल, रतलाम, खंडवा और ग्वालियर समेत विभिन्न शहरों में भेजा जाएगा। इसमें से 42 बॉक्स भोपाल, 39 जबलपुर, 19 ग्वालियर, 18 रीवा भेजो जाएंगे। इसके अलावा 75 बॉक्स को इंदौर में ही रखा जाएगा जो राज्य का सबसे अधिक संक्रमित जिला है। इंजेक्शन के कुछ स्टॉक सागर, रतलाम और खंडवा भी भेजा जाएगा।बता दें कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में पिछले 24 घंटे में COVID-19 के 2,00,739 नए मामले आए और 1038 संक्रमितों की मौत हो गई। इसके बाद देश में अब तक कुल संक्रमितों का आंकड़ा 1,40,74,564 हो गया और मरने वालों की संख्या 1,73,123 हो गई है। फिलहाल देश में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 14,71,877 है और डिस्चार्ज हुए मामलों की कुल संख्या 1,24,29,564 है। देश में कुल 11,44,93,238 लोगों को कोरोना वायरस की वैक्सीन लगाई गई है।


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *