July 5, 2022
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • पूर्वांचल न्यूज
  • प्रयागराज से भाजपा के सांसद रहे श्यामाचरण गुप्ता का कोरोना संक्रमण के कारण निधन

प्रयागराज से भाजपा के सांसद रहे श्यामाचरण गुप्ता का कोरोना संक्रमण के कारण निधन

By Purvanchalnama Desk on April 10, 2021
0 126 Views
शेयर न्यूज

लखनऊ-प्रयागराज के उद्योगपति व पूर्व सांसद श्यामाचरण गुप्ता का शुक्रवार की रात को निधन हो गया है। कोरोना संक्रमित पूर्व सांसद दिल्ली के मैक्स अस्पताल में भर्ती थे। इलाज के दौरान उन्होंने आखिरी सांस ली। पूर्व सांसद के भतीजे अनिल अग्रहरि ने उनके निधन की पुष्टि की।आपको बता दें कि होली के दिन कोरोना पॉजिटिव मरीजों में पूर्व सांसद श्यामाचरण गुप्ता और उनकी पत्नी जमनोत्री गुप्ता भी शामिल थीं। श्यामाचरण गुप्ता को परिजन उपचार के लिए दिल्ली लाए थे। उनकी पत्नी जमनोत्री गुप्ता होम आइसोलेशन में थीं।

अस्पताल में थे भर्ती

कोरोना पॉजिटिव मिले पूर्व सांसद का दिल्ली के एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा था। गुरुवार रात करीब 11:30 बजे उन्होंने अस्पताल में ही अंतिम सांस ली। उनका पार्थिव शरीर प्रयागराज लाने के प्रयास में लगे स्वजन का कहना है कि अस्पताल प्रबंधन इसका फैसला करेगा। जो निर्णय होगा उसके बाद आगे कदम उठाया जाएगा।प्रयागराज के पूर्व सांसद श्यामाचरण गुप्ता 31 मार्च कोरोना संक्रमित हो गए थे। उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई थी। कोरोना की रिपोर्ट आने के बाद श्यामाचरण गुप्ता को प्रयागराज में स्वरूपरानी अस्पताल के कोविड वार्ड में भर्ती कराया गया था। वहां तबीयत में सुधार नहीं होने पर दिल्ली के मैक्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया जहां उनका इलाज हो रहा था। शुक्रवार शाम अचानक तबीयत ज्यादा बिगड़ गई तो वेंटिलेटर का सपोर्ट दिया गया पर कोई सुधार नहीं हुआ। देर रात को उनका निधन हो गया। पूर्व सांसद की पत्नी भी कोरोना पॉजिटिव हैं। पूर्व सांसद की पत्नी भी होम क्वारंटाइन हैं।प्रयागराज में श्याम समूह की कंपनियों के संस्थापक और सीएमडी श्यामा चरण गुप्ता 2014 में इलाहाबाद से सांसद थे। उन्होंने 16 वें लोकसभा चुनाव में भाजपा उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा। 1984 में उन्होंने बांदा से एक स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में अपना पहला चुनाव लड़ा, लेकिन कांग्रेस के भीसन देव दुबे से हार गए। उनके लिए यह नुकसान न के बराबर था, क्योंकि वह बाद में 1989 में इलाहाबाद के मेयर बन गए थे। 1991 में उन्होंने भाजपा के दावेदार के रूप में इलाहाबाद सीट से लोकसभा चुनाव लड़ा और हार गए। उनका राजनीतिक करियर एक दशक से अधिक समय तक निष्क्रिय रहा जिसके बाद उन्होंने 2004 के चुनाव में बांदा सीट से सपा के उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा और जीता। इसके बाद 2009 में फूलपुर से चुनाव हार गए। उन्होंने 2014 के चुनावों में भाजपा उम्मीदवार के रूप में एक सफल अभियान चलाया और इलाहाबाद के सांसद बने।


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *