April 18, 2021
ट्रेंडिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • स्टेट न्यूज
  • सीएम नीतीश के बाद अब चिराग को झटका देने की तैयारी में भाजपा, 60 से अधिक नेताओं की होगी घर वापसी

सीएम नीतीश के बाद अब चिराग को झटका देने की तैयारी में भाजपा, 60 से अधिक नेताओं की होगी घर वापसी

By on April 9, 2021 0 14 Views

पटना -बिहार विधानसभा चुनाव-2020 (Bihar Assembly Election 2020) के दौरान भाजपा (BJP) छोड़कर दूसरे दलों में गए नेताओं की घर वापसी की तैयारी है। बंगाल चुनाव (West Bengal Elections) के बाद भाजपा का दरवाजा खुल सकता है। चुनाव के दौरान भाजपा के वरिष्ठ नेता राजेंद्र सिंह, उषा विद्यार्थी, रामेश्वर चौरसिया एवं रवींद्र यादव समेत 60 से अधिक ने पाला बदला था। इनमें से अधिकतर लोजपा (Lok Jan Shakti Party) का दामन थामकर राजग प्रत्याशियों के खिलाफ चुनाव मैदान में उतर गए थे। इससे कई सीटों पर राजग (NDA) को हार का सामना करना पड़ा था। पार्टी ने मामले को सख्ती से लेते हुए बागी नेताओं को छह वर्षों के लिए बाहर का दरवाजा दिखाया था, परंतु अब संगठन को मजबूत करने के अभियान पर काम शुरू होने वाला है। ऐसे में अपनों के लिए दरवाजा फिर से खोलने की तैयारी है।

पुराने नेताओं की पार्टी में वापसी की तैयारी

भाजपा से दूसरे दलों में गए नेताओं में कुछ ने स्वेच्छा से पार्टी छोड़ी थी तो कुछ को अनुशासनहीनता के आरोप में निकाला गया था। इनमें कई ऐसे हैं, जिनका क्षेत्र विशेष में ठीक-ठाक जनाधार है। इनमें कुछ पूर्व विधायक, जिलाध्यक्ष और संगठन से जुड़े रहे हैं। पार्टी की नजर ऐसे नेताओं पर भी है, जिन्होंने दूसरे दल में जाने के बावजूद भाजपा के खिलाफ मुंह नहीं खोला। अब वे घर वापसी के भी इच्छुक हैं। यही वजह है कि भाजपा भी उनके प्रति सकारात्मक रुख दिखा रही है।राजेंद्र सिंह और रामेश्वर चौरसिया जैसे ढाई दर्जन नेताओं की पहचान संगठन गढऩे वालों में है। संगठन की रीति-नीति को समझने से लेकर विचारधारा को मजबूत करने में भी बड़ा योगदान रहा है। यही वजह है कि पार्टी में उनकी वापसी का आधार तैयार किया जाने लगा है। राजेंद्र सिंह करीब दो दशक तक झारखंड से लेकर बिहार तक भाजपा के संगठन महामंत्री और प्रदेश उपाध्यक्ष जैसे तमाम शीर्ष पदों पर रह चुके हैं। उषा विद्यार्थी भी जिला महामंत्री से लेकर प्रदेश मंत्री, प्रदेश उपाध्यक्ष और प्रदेश प्रवक्ता तक रहीं हैं। वहीं, रामेश्वर चौरसिया भाजपा के चार बार विधायक रह चुके हैं। इससे पहले भाजपा युवा मोर्चा के राष्ट्रीय सचिव, उपाध्यक्ष के बाद बिहार भाजपा के प्रदेश मंत्री और प्रदेश उपाध्यक्ष के साथ राष्ट्रीय संगठन में कई प्रदेशों के प्रभारी रह चुके हैं।बिहार में अभी से भाजपा मिशन-2024 की तैयारी में लक्ष्य बनाकर संगठन को गढऩे की तैयारी कर रही है। यही वजह है कि पार्टी तमाम नेताओं व कार्यकर्ताओं को जोडऩे में जुट गई है। शीघ्र ही गुणदोष के आधार पर विभिन्न कारणों से छिटके या निकाले गए नेताओं की वापसी की जमीन तैयार की जा रही है।भाजपा में संगठन के शीर्ष रणनीतिकार और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से जुड़े वरिष्ठ पद धारक इस पहल को अमलीजामा पहनाने में जुटे हैं। इसके पीछे वजह है कि भाजपा से बाहर किए गए कई कार्यकर्ताओं का अरसे तक संघ से गहरा लगाव रहा है। संघ की विचारधारा को मजबूत करने में इनकी अहम भूमिका रही है। इसलिए संघ भी चाहता है कि घर वापसी हो जाए।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *