April 15, 2021
ट्रेंडिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • टॉप न्यूज
  • पीएम के मन की बातः त्योहारों की बधाई के साथ PM मोदी की अपील- दवाई भी, कड़ाई भी

पीएम के मन की बातः त्योहारों की बधाई के साथ PM मोदी की अपील- दवाई भी, कड़ाई भी

By on March 28, 2021 0 2 Views

नई दिल्ली(एजेंसी)- पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम मन की बात (Mann Ki Baat) के जरिए देश के लोगों को संबोधित किया है। इस दौरान पीएम ने कहा, ‘ मैं आपका बहुत-बहुत धन्यवाद करता हूं कि आपने इतनी बारीक नजर से ‘मन की बात’ को फॉलो किया है और आप जुड़े रहे हैं। ये मेरे लिए बहुत ही गर्व का विषय है, आनंद का विषय है।मैं आज, इस 75वें एपीसोड के समय सबसे पहले ‘मन की बात’ को सफल बनाने के लिए, समृद्ध बनाने के लिए और इससे जुड़े रहने के लिए हर श्रोता का बहुत-बहुत आभार व्यक्त करता हूं।’इस साल मन की बात का यह तीसरा संस्करण था और यह मासिक रेडियो कार्यक्रम का 75वां एपिसोड था।पीएम ने ऑल इंडिया रेडियो पर देश और विदेश में लोगों के साथ अपने विचार साझा किए।इसे AIR, DD News, PMO और सूचना और प्रसारण मंत्रालय के YouTube चैनलों पर लाइव स्ट्रीम किया गया।

कोरोना से जंग में मिसाल बना भारत-पीएम

पीएम मोदी ने कहा कि पिछले साल इस समय तक यह सवाल था कि कोरोना की वैक्सीन कब तक आएगी। हम सब के लिए यह गर्व की बात है कि आज भारत, दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीन अभियान चला रहा है। मैं ट्विटर-फेसबुक पर देख रहा हूं कि लोग अपने घर के बुजुर्गों को वैक्सीन लगवाने के बाद उनकी फोटो शेयर कर रहे हैं।देश की बेटियां आज हर जगह अपनी अलग पहचान बना रही है। वे खेलों में अपनी दिलचस्पी दिखा रही है। अभी हाल ही में मिताली राज अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 10,000 रन बनाने वाली पहली भारतीय महिला क्रिकेटर बनी हैं। उन्हें इसके लिए बहुत-बहुत बधाई।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कृषि जगत में आधुनिकता समय की मांग है। कृषि क्षेत्र में रोजगार के नए अवसर पैदा करने के लिए, किसानों की आय को दोगुना करने के लिए परंपरागत कृषि के साथ ही नए विकल्पों को अपनाना भी बेहद जरूरी है। पीएम मोदी ने कहा कि श्वेत क्रांति के दौरान इसे अनुभव किया गया है। उन्होंने कहा कि अब बी फॉर्मिंग भी ऐसा विकल्प बनता जा रहा है। बड़ी संख्या में किसान इससे जुड़ रहे हैं। दार्जिलिंग में लोगों ने हनी फॉर्मिंग का काम शुरू किया है। प्रधानमंत्री मोदी ने मन की बात में लोगों को एक मंत्र दिया और कहा कि हमें नया तो पाना है और वही तो जीवन होता है लेकिन साथ-साथ पुरातन गंवाना भी नहीं है। हमें बहुत परिश्रम के साथ अपने आस-पास मौजूद अथाह सांस्कृतिक धरोहर का संवर्धन करना है, नई पीढ़ी तक पहुंचाना है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *