April 18, 2021
ट्रेंडिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • स्टेट न्यूज
  • BJP की जीरो टॉलरेंस नीति के कारण ही आज गुंडे-माफिया उत्तर प्रदेश के बाहर: योगी आदित्यनाथ

BJP की जीरो टॉलरेंस नीति के कारण ही आज गुंडे-माफिया उत्तर प्रदेश के बाहर: योगी आदित्यनाथ

By on March 15, 2021 0 20 Views

लखनऊ-सोमवार को लखनऊ में भाजपा उत्तर प्रदेश की कार्यसमिति की बैठक का समापन हुआ। इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में समापन के सत्र में योगी आदित्यनाथ ने सरकार की उपलब्धियों पर प्रकाश डालने के साथ ही प्रदेश को विकास की डगर पर सरपट दौड़ाने के लिए सामूहिक स्तर पर काम करने पर बल दिया।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारी सरकार ने शपथ लेने के बाद से ही जीरो टॉलरेंस की नीति पर काम किया। इसमें जनविरोधी काम करने वाले सरकार के निशाने पर थे। सरकार ने कानून-व्यवस्था में सुधार को शीर्ष वरीयता पर रखा। इसी क्रम में शातिर अपराधियों पर शिकंजा कसा गया। उनको आर्थिक चोट भी दी गई। हजार से अधिक अपराधी जेल में हैं जबकि अन्य प्रदेश छोड़कर भागे हैं।

यूपी से भागे अपराधी-सीएम योगी

सीएम योगी ने कहा कि पार्टी की जीरो टॉलरेंस की जो नीति पार्टी थी वह आज दिख रही है। गुंडे-माफिया आज दूसरे राज्यों में मुंह छिपाए बैठे हैं। जो गुंडे सत्ता का सरपरस्त बनकर सत्ता का संचालन करते थे। आज वे दूसरे राज्यों में जाकर अपनी जान की भीख मांगकर वहां मुँह छुपाए बैठे हुए हैं। यह सत्ता की धमक है और यह धमक केवल भाजपा दे सकती है कोई और नहीं दे सकता है।सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमको प्रदेश की छवि को एक नई दिशा में ले जाने के लिए अभी बहुत कुछ करना है। चार वर्ष पहले जब उत्तर प्रदेश के बाहर जाते थे तो प्रदेश के लिए क्या राय बनती थी और अब राय क्या है। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में उत्तर प्रदेश 14 वें नंबर पर था और आज नंबर दो पर है। प्रदेश के अंदर हुए विकास के कार्यों से प्रदेश की अर्थव्यवस्था में तेजी आई है, आज प्रदेश का राजस्व एक लाख करोड़ रुपए का है।मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्षी पार्टियों के एजेंडे में किसान नहीं बल्कि जातिवाद था, तुष्टीकरण था लेकिन आज ईज ऑफ लिविंग को आसान करने के लिए 40 लाख गरीबों को आवास मुहैया कराया गया। देश के अंदर लगातार लंबे समय तक कांग्रेस की सरकार थी, लेकिन उन्होंने कभी किसान स्वॉयल हेल्थ कार्ड, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, प्रधानमंत्री सिंचाई बीमा योजना लागू नहीं की।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *