October 3, 2022
ब्रेकिंग न्यूज

Sign in

Sign up

  • Home
  • टॉप न्यूज
  • एमएलसी ए के शर्मा मिले सीएम से, सियासी गलियारे में एक बार फिर मंत्री बनाए जाने की चर्चा तेज

एमएलसी ए के शर्मा मिले सीएम से, सियासी गलियारे में एक बार फिर मंत्री बनाए जाने की चर्चा तेज

By Shakti Prakash Shrivastva on May 22, 2021
0 131 Views
शेयर न्यूज

लखनऊ,(मुख्य संवाददाता)। बीजेपी एमएलसी और पूर्व आईएएस ए के शर्मा के लखनऊ पंहुचते ही एक बार फिर राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ गईं हैं। शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उनकी मुलाक़ात के बाद राजधानी के सियासी गलियारे में मंत्रिमंडल के विस्तार की चर्चा के साथ साथ उनको मंत्री पद दिये जाने के कयास लगने लगे हैं।

राजधानी छोड़ वाराणसी मे डटे रहे ए के शर्मा

गुजरात कैडर के नौकरशाह (आई ए एस) से राजनेता बने ए के शर्मा जब जनवरी में पद से इस्तीफा देने के बाद भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए थे और फिर जिस तरह से एमएलसी बनाए गए थे। उसको लेकर राजधानी लखनऊ का सियासी पारा गरम हो गया था। चर्चा होने लगी कि मंत्रीमण्डल विस्तार होगा और इन्हे कम से कम उप मुख्यमंत्री जैसे अहम पद पर बैठाया जाएगा। लेकिन समय बदला ईएसए कुछ बी नहीं हुआ और  इनहोने अपनी सक्रियता राजधानी से दूर वाराणसी के इर्द गिर्द बना लिया। कोरोना के दूसरी लहर का प्रकोप बढ़ाने पर श्री शर्मा ने मोर्चा संभाला और पीएमओ और राज्य सरकार के बीच वह सेतु का काम करने लगे। पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी में कोविड के खिलाफ लड़ाई में इनके योगदान की जमकर तारीफ की।

पीएमओ और राज्य सरकार के बीच पूल का काम कर रहे शर्मा

यूपी के अफसर इनके अहमियत को देखते हुए इनके हर सुझाव को आदेश के रूप में लेते हैं। पीएमओ से राज्य सरकार के साथ होने वाले पत्राचार में बाकायदा श्री शर्मा का नाम लिखा जाता है और उनके सुझावों का जिक्र किया जाता है।

मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलें तेज

श्री शर्मा ने शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उनके सरकारी आवास पांच कालिदास मार्ग पर मुलाकात की। इसके बाद सियासी गलियारे में सरगर्मियां तेज हो गयीं। मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर कयास लगाए जाने लगे, दलील दी जा रही है कि योगी सरकार के तीन मंत्रियों, दो कैबिनेट मंत्री और एक राज्यमंत्री का कोरोना से निधन हो गया है।  तीनों मंत्रियों के पद रिक्त चल रहे हैं। कयास लगाया जा रहा है कि चुनावी वर्ष होने के नाते किसी भी सदस्य को बाहर नहीं किया जाएगा। इससे पहले भी मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चा तेज हुई थी लेकिन कोविड की दूसरी लहर की वजह से संभव नहीं हो सका था। हालांकि इस बार भी अभी तक विस्तार के बारे में कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी गयी है।

 


शेयर न्यूज
Leave a comment

Your email address will not be published.